Saturday, March 25, 2017

वसुंधरा और हम सबको क्लाइमेट चेंज के बाद सबसे बड़ा जो कोई खतरा है वह आसमान से बरसेगा lस्पेस एज का आसमानी कचरा , जो 16 करोड़ से भी ज्यादा की तादाद में आसमान में 56000 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से घूम रहा है , वह ना केवल उपग्रह बल्कि हम सब के लिए एक एटमिक बम की तरह है l 400 से 40000 किलोमीटर ऊपर से  200 किलो मीटर पर सेकंड की रफ्तार से अगर इनमें से कोई भी हम पर गिरता है तो कोई कल्पना भी नहीं कर सकता क्या होगा l आम आदमी इस से बेखबर है lअब स्पेस साइंस इसके ऊपर गंभीरता से निर्णय ले रहा है Image credit: ESA

Friday, March 24, 2017

वर्तमान के क्लाइमेट चेंज का एक भयानक पहलू सामने आया है l सैटेलाइट युग में पिछले 40 सालों में पहली बार ध्रुव प्रदेशों की बर्फ इस विंटर में अत्यधिक पिघल गई है l 10 गुजरात राज्य जितनी यह पिघली बर्फ , समंदर की सतह  बढ़ाएंगी और क्लाइमेट चेंज करने में आधारभूत भूमिका वहन करेगी l Image credit : NOAA


Saturday, March 18, 2017

पृथ्वी के झुकाव की वजह से सूर्य उत्तरायण और दक्षिणायन की ओर जाते समय वर्ष में दो बार भूमध्य रेखा क्रॉस करते हैं l उसी दिन वह एग्जैक्ट पूर्व में उदित होकर पश्चिम में ढलते हैं l 20/3/2017 को यही होगा l इसके चलते हैं आगामी 3 दिन पूरे विश्व में दिन और रात लगभग समान रहेंगे lवसंत संपात दिन की हार्दिक शुभेच्छा lपुरोहित परिवार l

Wednesday, March 15, 2017

स्वर्ग का दिव्यदर्शन। गुरुद्वारा। Heaven on our mother earth..https://youtu.be/NPVBR1dOlVY?t=3
हमसे वर्तमान में ६८ करोड़ किलोमीटर दूर कन्या राशि में चल रहे गुरुग्रह का कल 14/3/2017 को  चन्द्रमा के साथ अद्भुत मिलन हुआ। केवल 2.45 डिग्री की इस अद्भुत युति पूरी रात्रि पुरे विश्व ने देखि। रोंगटे खड़े कर देने वाले  इस दिव्य नृत्य में गुरु के ठीक निचे रहकर चित्रा नक्षत्र ने भी साथ दिया तो चंद्र की बायीं और स्वाति भी उसे निहार रहा था। गुरुदेव वेधशाला से इस अद्भुत दर्शन की कुछ तस्वीरे प्रस्तुत है। 
The great conjunction of Jupiter & Moon on 14/3/2017.Spica & Arcturus join this divine celestial dance.Pictures have been taken from Gurudev Observatory.





Thursday, March 9, 2017

2016 रहा अब तक का सर्वाधिक गर्म वर्ष ,इस वर्ष का जनवरी रहा तीसरा गर्म माह, हिमखंड पिघल रहे है ,CO2 हो गया 406 पीपीएम ,समुद्र की सतह में ३.४ मिलीमीटर की वृद्धि जारी रही ,चिड़िया और ऐसी कई प्रजातियां समाप्ति की और ,फसलो में गिरावट, ऋतुचक का भयंकर असंतुलन , अब हम किसकी राह देख रहे है मानवीय अस्तित्व को समाप्त करने के लिए ? क्या हम माता वसुंधरा को नहीं बचाएंगे ? क्या हमारी प्यारी अगली पीढ़ी को श्रेष्ठ वातावरण नहीं देंगे ?
Data-Image credit: NOAA/NASA/ESA 


Sunday, March 5, 2017

GURUDEV OBSERVATORY 5/3/2017 की सुबह शांतिकुंज लाइव स्ट्रीम पर एक और अद्भुत द्रश्य दिखा। समाधी पर स्वर्णिम सविता के साथ समाधी के ठीक ऊपर शेड के अंदर स्वर्णिम आभा के साथ सूर्यनारायण दिखे। ध्यान से देखे तो सूर्य समाधी की ऊपर के शेड के अंदर पुरे गोल दिखाई देते है वास्तव में होना चहिये था की चूँकि सूर्य शेड के बहार आस्मां में होने की वजह से सूर्य का शेड के पीछे वाला भाग नहीं दिखता मगर यहाँ तो पूर्ण सूर्य दिखाई दे रहे है। संभावना है की यह प्रकाश के वक्रीभवन यानि की ऑपिटकल रेफ्रेक्सन के कारन दिखा हो। जो भी हो हमें एक साथ सूर्य और स्वर्णिम सविता समाधी पर दिखे वो ही रोमांचित कर देता है।